Get Regularly Updating Feed Of Latest Bollywood, Entertainment, tech, Viral news in Hindi And English language

Breaking

Wednesday, June 16, 2021

Home >> Gyan >> पुरुषों को पराई स्त्री क्यों अच्छी लगती है

पुरुषों को पराई स्त्री क्यों अच्छी लगती है

पराई स्त्री क्यों अच्छी लगती है?,

अक्सर देखा गया है की पुरुष दूसरी औरतो की तरफ आकर्षित होते है , और कई बार उनके बीच एक ख़ास संभंध भी बन जाता है. जिसकी वजह से कई लोगो की शादी शुदा ज़िन्दगी तबाह हो जाती है.

पराई स्त्री क्यों अच्छी लगती है?, तृप्ति का अनुभव कब होता है?, स्त्री और पुरुष का मिलन कैसे होता है?, क्यों अतिरिक्त वैवाहिक प्रसंग होता है?,
IMAGE CREDIT PIAXABAY

शादी को एक पवित्र रिश्ता माना गया है ,और भारत में तो इसे जनम जन्मान्तरो का सम्बन्ध मन जाता है. ऐसे मामले ज्यादातर गोपनीय रहते है.और जब सामने आते है तो बवाल मच जाता है. लेकिन सोचने वाली बात यह है की आखिर पुरुष क्यू परायी औरतो से आकर्षित होते है जैसे के चुम्बक हो .


क्यों अतिरिक्त वैवाहिक प्रसंग होता है?,

ऐसा क्यू होता है क्या है इसके पीछे का राज़ चलिए जानते है 


दोस्तों कई बार पुरुष जो है वो अपनी पत्नी से कई मामलो में संतुष्ट नहीं रहते है. संतुष्ट न होने कई कारण हो सकते है. कभी कभी पुरुष को पत्नी का व्यवहार उसका रहन सहन अच नहीं लगता है . ऐसे में मौका मिलने पर मर्दों का दूसरी औरतो के तरफ आकर्षण हो जाता है.


कुछ लोगो की शादी पढाई के दौरान कम उम्र में हो जाती है, उस समय पुरुष अपनी पसंद न पसंद तय कर पाने की स्तिथि में नहीं होते है . घर वालो की पसंद की शादी कर लेते है जहाँ घर वाले करने कहते है वह चुपचाप कर लेते है.


लेकिन जब बाद में उनकी उम्र बढ़ने लगती है और ज़िन्दगी में कोई अच्छे  मुकाम पर जब पुरुष पहुँचते है.तो फिर उनके रहन सहन में बदलाव होने लगता है और फिर उनके मनन कुछ गलत सलत ख्याल आने लगते है के शादी जल्दी हो गयी थोडा रुक जाते तो इस लड़की से शादी कर लेते उस लड़की से शादी कर लेते, ऐसे मनन में पछतावे आने लगते है जो के बिलकुल सही नहीं है .क्यू के जो हुआ वो ऊपर वाले की मर्ज़ी थी हमें हर हाल में खुश रहना चहिये.कभी कभी हमारे फैसले से ऊपर वाले के फैसले ज्यादा अछे होते है .


फिर पति के ऐसे बर्ताव से पत्नी को पता चलने लगता है के शायद मेरे पति मुझे प्यार नहीं करते क्या वो किसी और लड़की के चक्कर में तो नहीं है फिर इस बात में मिया बीवी में झगडे होने लगते है .और नतीजा ये होता है  के जैसे पुरुष को कोई मौका मिलता है या कोई ऐसी महिला उसके जीवन में आती है तो उस मौके को हाथ से जाने नहीं देता है .


महिला जो होती है वो अपने बच्चों में बिजी हो जाती है और पुरुष पर थोडा उनका ध्यान कम हो जाता है और धीरे धीरे जो प्यार और आकर्षण शादी के वक़्त था तो प्यार और आकर्षण कम होने लगता है.


ऐसे में न पुरुष की गलती है न औरत की लेकिन जब कबी ऐसी स्तिथि बने पुरुष हो या औरत थोडा ध्यान देना चाहिए .


दूसरी औरत अच्छी तो लगती है लेकिन उसके नुकसान भी बहोत है कभी कभी दूसरी स्त्री पहली स्त्री से भी भरी पद जाती है फिर पुरुष बेचारा बीच में फंस जाता है इसलिए जब भी कोई कदम उठाये सोच समझ के उठाये .


कोई कोई पुरुष तो चाहते है के कोई महिला से दोस्ती हो जाये लेकिन कोई पुरुष अच्छे भी होते है जो अपने काम और परिवार में उलझे रहते है .


लेकिन ऐसा पाया गया है के जो अच्छे पुरुष होते है वो नहीं चाहते हुए भी ऐसी मुसीबत में पढ़ जाते है जैसे की पुराणी स्कूल या कॉलेज की फ्रेंड अचानक से मिल जाना जिसे आप पसंद करते थे .अब आप खुद सोचिये जब कोई पुराना फ्रेंड मिलता है तो कितनी खुशी होती है .फिर ऐसी पुराणी दोस्त मिल जाने के बाद कुछ नजदीकिया भी भाधने लगती है और न छाते हुए भी कुछ ऐसे रिलेशन बन जाते है जो के सही नहीं है.पुरुष तो हमेशा छुपाने की कोशीश करते है लेकिन ऐसी बाते छुपाये नहीं छुपती है और कहिन कहीं जकर बहोत बड़ा बवाल खड़ा कर देती है.


इसलिए जब भी कोई कदम उठाये सोच समझ के उठाये ,इस लेख में हमने पुरुषो को मुसबत से बहकने की सलाह दी है .

DISCLAIMER- यहाँ दी गयी जानकारी इन्टरनेट और न्यूज़ पेपर पर उपलब्ध जानकारी के अधर पर दी गयी है 

No comments:

Post a Comment